बुधवार, 18 दिसंबर 2013 | By: kamlesh chander verma

वह मंज़र तुम्हे याद है.....!!!

वह मंज़र तुम्हे  याद  है, अपने ज़ुनून  का,
 महंगा सौदा था  किया, अपने सकून  का। 

अंजामों  से बे-परवाह ,तेरी मुहब्ब्त में ,
बदल गया 'सबब' ,ज़िंदगी के मज़मून का। 

कहाँ कमी रह गयी हमसे  ,अपनी मुहब्ब्त में,
कैसे ? बदल गया  रंग इश्के-ज़िगर के खून का। 

तेरी शक्लो-सीरत का  ये  दिल तलबगार है,
नहीं कोई असर  नूरानी , चेहरों के हज़ूम  का। 

''कमलेश' नहीं मलाल ,उस कीमत की  मुझे ,
जो चुकाई हमने , वो मेरा दिले-सकून था. ....

1 comments:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बृहस्पतिवार (19-12-13) को टेस्ट - दिल्ली और जोहांसबर्ग का ( चर्चा - 1466 ) में "मयंक का कोना" पर भी है!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'