शनिवार, 3 अक्तूबर 2015 | By: kamlesh chander verma

मैं हिन्दू हूँ वो मुसलमां है....

मैं हिन्दू हूँ वो मुसलमां है
ज़माना रोज़ कहता हैं ।
मगर इंसान है दोनों।
मैं भी समझता हूँ
वो भी समझता है।

मगर ये दूरियां बनाने की
कोशिशें कौन करता है।
है ईमान खतरे में ये कान
कौन भरता है।।
ये मैं भी समझता हूँ
और वो भी समझता है।।

नही जब भेद है दिल में
तो बाहर चौकसी कैसी ।
कहीं आपा 'रानी' है कहीं
'रजिया 'बनी मौसी ।
इन रिश्तों  को कहीं कोई
क्यों
नापाक कहता है।।
ये मैं भी समझता हूँ....!

वो अम्मी बुलाता है मैं
अम्मा बुलाता हूँ।
है एक ही मतलब
जो रोज दुहराता हूँ ।
इन पाक लफ़्ज़ों पर
ज़माना क्या कहता है।
मैं भी समझता हूँ
.........!

हम इस बेरुखी में
ज्यादा जी नहीं सकते।
किसी की साज़िशों
में अब पिस नहीं सकते।
इन नफरतों के पर्दों में
कौन रहता है।
ये मैं भी समझ.......।।

कमलेश" इस देश में ये
दस्तूर चलता है।
गले मिलकर  मुहब्बत् से
नफरतों से दूर चलता है ।
ये प्रेम सद्भाव का मौसम
किसको खलता है।
मैं भी समझता हूँ।
वो भी समझता है।।