रविवार, 28 अक्तूबर 2012 | By: kamlesh chander verma

'200''वीं पोस्ट ..// ''आ गयी दोस्त ''...!!!

''अब तक आप लोगों के आशीर्वाद एवम प्यार की अनछुए स्पर्श को महसूस कर  के अच्छी -बुरी जो मेरी योग्यता थी ,अपनी कलम से लिखता गया ,कुछ रचनाएँ कुछ मनीषियों के  द्वारा सराही भी गयीं ,कुछ शायद मन नही भायीं होगी ,फिर भी लिखने का सिलसिला चलता -चलता  '200''वीं  पोस्ट  तक पहुँच गया ,जो मेरे लिए एक  स्वप्न जैसा ही था ,क्योंकि  संयुक्त पारिवारिक परिवेश अवम नौकरी  के झंझावतों के बीच उच्च कोटि की रचना मुझ जैसे नव-सिखए के लिए मुश्किल लगता थी  ,इस लिए समय -समय पर सभी गुनीजनो से निवेदन करता रहता हूँ की आप मेरी रचनाओ को प्राशांगिक बनाने में किसी तरह का सुझाव  उसमे बदलाव के लिए दे सकते हों ,मै  आपका आभारी रहूँगा ,और लेखक को   उसकी रचना के प्रति आपके प्यार का इजहार '' टिप्पणियों''  या सुझाव द्वारा ही महसूस होता है ,किरपा करके आप इस कर्म-वचन को निभाए जिससे एक लेखन का प्रयास करने वाला जी  सके।।''जय ब्लोगर ,जय भारती ''.

2 comments:

Ravinder verma ने कहा…

आपके स्नेहपूर्ण शब्द मेरा मार्ग दर्शन करते हैं.. congrats for double century..

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

बधाई ...शुभकामनायें