रविवार, 11 सितंबर 2011 | By: kamlesh chander verma

वाह ! कितनी जल्दी हम , सब कुछ भी भूल जाते हैं ..!!!

वाह ! कितनी जल्दी हम , सब कुछ भी भूल जाते हैं ,
हम सब अपने -अपने काम पर, बच्चे स्कूल जाते हैं

क्या ? कोई फर्क नही पड़ता, हमको इन घटनाओं से ,
जिनकी कोख हुई सूनी पूछो, उन दुखियारी माओं से

इतनी कम कीमत कैसे है?,यहाँ हम सबके जीने की
कब आएगी कोई शिव- शक्ति '' ये हलाहल पीने की

हम हैं विश्व महा-शक्ति कहते मुहं नही थकते हैं ,
पर हर छोटी बात की खातिर [अमरीका ]का मुहं तकते हैं

अब वक्त कभी का आया है ,हर भारतवासी के हिस्से में ,
अब ना खुद को उलझाओ ,जात-पांत धर्म के किस्से में

मिल कर मारो इमान से हमला,अपने देश के गद्दारों पर ,
कमलेश 'मरेगा हर आतंकवादी ''लिखा पढ़े दीवारों पर ''॥




















2 comments:

Mirchi Namak ने कहा…

bhaiyaa jab maarna in haram ke aatankiyo to ek aadhe hamare liye chode dena ....

aapka mirchi namak

http://mirchinamak.blogspot.com/2011/09/blog-post_3297.html

waiting for your valuable touch have a good day.

Patali-The-Village ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रेरणा दी पोस्ट| धन्यवाद|