रविवार, 12 मई 2019 | By: के सी वर्मा

मां 🌹🌹🌹🌹

🌹🌹🌹मां 🌹🌹🌹
----_--------+---+------------
एक दिन ही क्यूँ मां का मनाते हैं हम। 🌹
है कितना प्यार, दुनिया को बताते हैं हम।
🌹
नहीं गुजरता था ,जिसके बिना एक  छिन। 🌹
हम मनाने लगे, उसके लिए एक दिन। 🌹

जिसकी आँचल की छाँव में ,पल कर बढे। 🌹
जिसकी उंगली पकड़ ,हम सब आगे बढे।
🌹
कहीं गिर पड़े पाँव में, कोई ठोकर लगी। 🌹
बेजान पत्थरों की भी, बुरी शामत बनी।।
🌹
सर्दी, गर्मी, भूख के अहसास से    परे🌹
बैठी सिरहाने रही , हाथ सिर पर धरे। 🌹

कितनी रातें होंगीं , कितने काटे थे दिन। 🌹
और हम मनाते सिर्फ ,उसका एक दिन.. ।।
🌹🌹
मां का दुनिया में कहीं कोइ, सानी नहीं। 🌹
मां से खूबसूरत प्रकृति में, दूजी निशानी
नहीं। 🌹
स्व अस्तितव् असम्भव है ,अपनी माँ बिन।। 🌹
और मनाते हैं सिर्फ ,उसका एक दिन ..।।
🌹🌹
'कमलेश' ना जाए कोइ माँ ,आश्रमों की डगर। 🌹
सजा कर रखो पास सदा, मां-पारस पत्थर। 🌹

हो माँ संग हमारे ,हर पल हर छिन ।।
अब मनायेंगे हम, मार्तु दिवस हर दिन..।।
🌹

🌹कमलेश वर्मा 'कमलेश' 🌹